“The Knowledge Library”

Knowledge for All, without Barriers…

An Initiative by: Kausik Chakraborty.
09/02/2023 11:19 AM

“The Knowledge Library”

Knowledge for All, without Barriers……….
An Initiative by: Kausik Chakraborty.

The Knowledge Library

भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के महत्वपूर्ण व्यक्तित्व

बाल गंगाधर तिलक (1856-1920)

  • जन्म: 1856 महाराष्ट्र में
  • 1877 में डेक्कन कॉलेज, पुणे से स्नातक की उपाधि प्राप्त की बाद में गवर्नमेंट लॉ कॉलेज, बॉम्बे में पढ़ाई की
  • 1890: INC में शामिल हुए
  • 1897: चापेकर बंधुओं ने (तिलक लेखों से प्रेरणा) लेकर कमिश्नर रैंड की हत्या कर दी
  • उन्होंने बहिष्कार और स्वदेशी आंदोलन को समर्थन दिया
  • लाल-बाल-पाल तिकड़ी: उन्होंने साथी राष्ट्रवादी बिपिन चंद्र पाल और लाला लाजपत राय का समर्थन किया
  • 1907: कांग्रेस विभाजन (गरम दल और नरम दल में मतभेद के कारण)
  • 1916: उनके नेतृत्व में चरमपंथी फिर से कांग्रेस में शामिल हो गए
  • उन्होंने शिवाजी (1896) और गणेश (1894) उत्सवों की शुरुआत की
  • ब्रिटिश लेखक सर वेलेंटाइन चिरोल ने उन्हें “भारतीय अशांति का पिता” कहा
  • “लोकमान्य” की उपाधि से सम्मानित
  • उनका चरमपंथी दृष्टिकोण था (आत्म-सम्मान, आत्म-बलिदान और स्वराज के समर्थक)
  • उनका उद्धरण: “स्वराज्य मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूँगा”
  • स्वराज या स्वशासन की वकालत करने वाले पहले व्यक्ति
  • वे समाज के घोर पश्चिमीकरण के खिलाफ थे
  • सामाजिक रूप से रूढ़िवादी: सहमति की आयु विधेयक का विरोध (1891), पश्चिमी शिक्षा प्राप्त करने वाली महिलाओं के खिलाफ
  • उन्होंने पूना और बम्बई में स्वदेशी आंदोलन को फैलाने में मदद की
  • 1919 के सुधारों को अयोग्य और निराशाजनक करार दिया
  • वह मुस्लिम नेताओं के साथ गठबंधन के विरोध में थे
  • प्रकाशन : केसरी (मराठी) और महरत्ता (अंग्रेज़ी), 1903: द आर्कटिक होम इन द वेद (1903), द ओरियन (पुस्तक) और गीता-रहस्य
  • संस्थापक होम रूल लीग (1916): महाराष्ट्र (बॉम्बे को छोड़कर), कर्नाटक, मध्य प्रांत और बरार
  • होम रूल लीग की मांगें: 1) स्वराज्य 2) भाषाई राज्य 3) स्थानीय भाषा में शिक्षा
  • डेक्कन एजुकेशन सोसाइटी (1884): विष्णु शास्त्री चिपलूनकर और गोपाल गणेश अगरकर के साथ
  • भारतीय छात्रों के बीच राष्ट्रवादी शिक्षा को प्रेरित करने के लिए (सोसाइटी ने 1885 में फर्ग्यूसन कॉलेज की स्थापना की)

बिपिन चंद्र पाल (1858-1932)

  • जन्म: 1858 सिलहट जिले (अब बांग्लादेश) में
  • 1891 एज ऑफ़ कंसेन्ट अधिनियम का समर्थन
  • स्वदेशी और बहिष्कार आंदोलन के दौरान निष्क्रिय प्रतिरोध की वकालत की
  • 19वीं सदी की अंतिम तिमाही के दौरान असम चाय बागान मजदूरों के लिए संघर्ष किया
  • बंगाल पुनर्जागरण आंदोलन के मुख्य वास्तुकार
  • ब्रह्म समाज में शामिल हुए और सामाजिक कुरीतियों का विरोध किया
  • जाति व्यवस्था विरोधी
  • अरबिंदो ने उन्हे “राष्ट्रवाद का सबसे शक्तिशाली पैगंबर” कहा
  • उन्होंने पूर्ण स्वतंत्रता का आह्वान किया
  • संघीय भारतीय गणराज्य की स्थापना करना चाहते थे
  • बंगाली में परिदर्शक साप्ताहिक शुरू किया
  • ट्रिब्यून, न्यू इंडिया (1901), वंदे मातरम (1906), इंडिपेंडेंट एंड डेमोक्रेट
  • 1908-11: स्वराज (लंदन से), हिंदू समीक्षा (1912)
  • मॉडर्न रिव्यू, अमृता बाज़ार पत्रिका और स्टेट्समैन (योगदान)
  • भारत का नया आर्थिक संकट (पुस्तक)

एनी बेसेंट (1847-1933)

  • 1888: इंग्लैंड में थियोसोफिकल सोसायटी में शामिल हुई
  • 1893: सामाजिक सुधारों के लिए काम करने भारत आई
  • 1898: सेंट्रल हिंदू कॉलेज की स्थापना की जो बाद में बीएचयू (1916) बना
  • 1907: थियोसोफिकल सोसायटी की अध्यक्ष बनी
  • 1913: राजनीति में प्रवेश की
  • 1916: होम रूल लीग की स्थापना की
  • 1917: INC . की पहली महिला अध्यक्ष बनी
  • अमृतसर अधिवेशन (1919-20): जलियांवाला बाग की निंदा प्रस्ताव पेश की
  • प्रकाशन : द लोटस सॉन्ग (गीता का अंग्रेजी में अनुवाद), न्यू इंडिया एंड कॉमनवील

भगत सिंह (1907-1931)

भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के महत्वपूर्ण व्यक्तित्व
  • वह एक क्रांतिकारी थे
  • असहयोग आंदोलन में भाग लिया
  • 1925 : HRA में शामिल
  • 1926: पंजाब में नौजवान भारत सभा की शुरुआत
  • लाहौर षडयंत्र में प्रमुख भूमिका निभाई
  • 1928: चंद्रशेखर आज़ाद के नेतृत्व में दिल्ली के कोटला में एचआरए का नाम बदलकर एचएसआरए कर दिया गया
  • 1928: लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने के लिए सॉन्डर्स को मार डाला
  • 1929: केंद्रीय विधान सभा पर बमबारी – सार्वजनिक सुरक्षा विधेयक और व्यापार विवाद के पारित होने के खिलाफ के विरोध में
  • 1931: उन्हें 23 मार्च, 1931 को फांसी दी गई
  • उन्होंने समाज के प्रति मार्क्सवाद और वर्गीय दृष्टिकोण को पूरी तरह स्वीकार किया
  • वे पूरी तरह से धर्मनिरपेक्ष थे

सी राजगोपालाचारी (1879-1972)

  • वे पेशे से वकील थे
  • गांधी जी द्वारा असहयोग आंदोलन के आह्वान के जवाब में अपना अभ्यास छोड़ दिया
  • वह नो-चेंजर्स समूह (स्वराजवादी) का हिस्सा थे।
  • उन्होंने कांग्रेस-लीग सहयोग के लिए सीआर फॉर्मूला तैयार किया (मुस्लिम लीग द्वारा अस्वीकृत)
  • वे एक महान समाजवादी थे। रूढ़िवादी धार्मिक और सामाजिक रीति-रिवाजों की निंदा की
  • दबे-कुचले वर्गों के उत्थान की वकालत
  • पूना बस्ती में अग्रणी भूमिका निभाई
  • थोरो और टॉल्स्टॉय से प्रभावित थे।
  • प्यार से राजाजी कहलाते थे।
  • 1919: गांधीजी से मुलाकात के बाद राजनीतिक मोर्चे पर प्रवेश किया
  • 1921-22: भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के महासचिव
  • 1922-24: कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य
  • सविनय अवज्ञा आंदोलन (1930): त्रिचिनोपोली से वेदारण्यम तक तंजौर तट पर नमक मार्च का नेतृत्व किया
  • 1937 का चुनाव: मद्रास में कांग्रेस की जीत का नेतृत्व किया
  • 1942: क्रिप्स मिशन योजनाएं को स्वीकार करने से इनकार करने पर कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया
  • 1947: बंगाल के राज्यपाल के रूप में कार्य किया
  • 1946-47: गवर्नर जनरल की कार्यकारी परिषद के सदस्य
  • 1948-50: भारत का पहला और आखिरी गवर्नर जनरल
  • 1951: भारत सरकार में गृह मामलों के मंत्री
  • 1959 में, उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया और स्थापना की स्वतंत्र पार्टी की, जिसने 1962 , 1967 और 1971 चुनावों में कांग्रेस को लड़ाई लड़ी।
  • 1954: भारत रत्न से नवाजे गए
  • प्रकाशन : स्वराज्य और सत्यमेव जयते

चंद्रशेखर आजाद (1906-1931)

  • आज़ाद का जन्म 23 जुलाई, 1906 को मध्य प्रदेश के अलीराजपुर ज़िले में हुआ था।
  • प्रारंभिक जीवन: चंद्रशेखर, जो कि उस समय 15 वर्षीय छात्र थे, दिसंबर 1921 में एक असहयोग आंदोलन में शामिल हुए थे जिसके कारण उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।मजिस्ट्रेट के सामने पेश होने पर उन्होंने अपना नाम “आज़ाद” (द फ्री) तथा अपने पिता का नाम “स्वतंत्रता” (स्वतंत्रता) और अपना निवास स्थान “जेल” बताया था। इसलिये उन्हें चंद्रशेखर आज़ाद के नाम से जाना जाने लगा।
  • गांधी द्वारा 1922 में असहयोग आंदोलन के निलंबन के बाद आज़ाद हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन (Hindustan Republican Association- HRA) में शामिल हो गए। सदस्य: भगत सिंह, चंद्रशेखर आज़ाद, सुखदेव, राम प्रसाद बिस्मिल, रोशन सिंह, अशफाकउल्ला खान, राजेंद्र लाहिड़ी।
  • HRA भारत का एक क्रांतिकारी संगठन था जिसकी स्थापना वर्ष 1924 में पूर्वी बंगाल में शचींद्र नाथ सान्याल, नरेंद्र मोहन सेन और प्रतुल गांगुली ने अनुशीलन समिति की शाखा के रूप में की थी।
  • काकोरी षडयंत्र: क्रांतिकारी गतिविधियों के लिये अधिकांश धन संग्रह सरकारी संपत्ति की लूट के माध्यम से किया जाता था। उसी के अनुरूप वर्ष 1925 में HRA द्वारा काकोरी (लखनऊ) के पास काकोरी ट्रेन डकैती की गई थी।
  • इस योजना को चंद्रशेखर आज़ाद, राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाकउल्ला खान, राजेंद्र लाहिड़ी और मनमथनाथ गुप्ता ने अंजाम दिया था।
  • 1926 के काकोरी ट्रेन डकैती को अंजाम देने वालों में प्रमुख व्यक्ति
  • 1928: दिल्ली के फिरोजशाह कोटला के खंडहरों में बैठक की अध्यक्षता की जहाँ उन्होंने HRA का नाम बदलकर HSRA कर दिया
  • HSRA ने लाला लाजपत राय की हत्या का बदला लेने के लिये वर्ष 1928 में लाहौर में एक ब्रिटिश पुलिसकर्मी जे.पी. सॉन्डर्स को गोली मारने की योजना बनाई।
  • 1929: दिल्ली के पास वायसराय इरविन की ट्रेन को उड़ाने के प्रयास में शामिल
  • 1931: इलाहाबाद के एक पार्क में पुलिस मुठभेड़ में मारे गए
  • वे प्रवावित थे :
    • प्रथम विश्व युद्ध के बाद मजदूर वर्ग के ट्रेड यूनियनवाद के उभार से
    • रूसी क्रांति (1917) से
    • क्रांतिकारियों के आत्म-बलिदान की प्रशंसा करने वाली पत्रिकाएं जैसे आत्मशक्ति, सारथी और बिजोलिक से
    • उपन्यास और किताबें जैसे सचिन सान्याल द्वारा बंदी जीवन और शरत चंद्र चट्टोपाध्याय द्वारा पथेर दाबी से

राम प्रसाद बिस्मिल

  • उनका जन्म 11 जून, 1897 को उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर जिले के एक गांव में मुरलीधर और मूलमती के घर हुआ था।
  • वे दयानंद सरस्वती (1875) द्वारा स्थापित आर्य समाज में शामिल हुए। इसका उन पर गहरा प्रभाव पड़ा और उन्होंने प्रायः साम्राज्यवादी ताकतों के खिलाफ लड़ाई में कविता को अपने हथियार के रूप में इस्तेमाल किया।
  • क्रांतिकारी विचार उनके दिमाग में सर्वप्रथम तब जन्मे जब उन्होंने भारतीय राष्ट्रवादी और आर्य समाज मिशनरी ‘भाई परमानंद’ को दी गई मौत की सजा के बारे में पढ़ा। इस समय वे 18 वर्ष के थे और उन्होंने अपनी कविता ‘मेरा जन्म’ के माध्यम से अपनी पीड़ा को व्यक्त किया।
  • उनका मानना था कि हिंसा और रक्तपात के बिना स्वतंत्रता प्राप्त नहीं की जा सकती, जिसका अर्थ था कि उनके विचार महात्मा गांधी के ‘अहिंसा’ के आदर्शों के विपरीत थे।
  • उन्होंने एक स्कूल शिक्षक ‘गेंदा लाल दीक्षित’ के साथ मिलकर ‘मातृवेदी’ नामक संगठन का निर्माण किया। दोनों ही क्रांतिकारी विचारों को साझा करते थे और देश के युवाओं को ब्रिटिश सरकार से लड़ने के लिये संगठित करना चाहते थे।
  • बिस्मिल, सचिंद्र नाथ सान्याल और जादूगोपाल मुखर्जी के साथ ‘हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन’ (HRA) के प्रमुख संस्थापकों में से एक थे। ‘हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन’ की स्थापना वर्ष 1924 में हुई थी और इसका संविधान मुख्य रूप से बिस्मिल द्वारा ही तैयार किया गया था।
  • वे वर्ष 1918 के ‘मैनपुरी षडयंत्र’ में शामिल थे, जिसमें पुलिस ने बिस्मिल सहित कुछ अन्य युवाओं को ऐसी किताबें बेचते हुए पाया था, जो ब्रिटिश सरकार द्वारा प्रतिबंधित की गई थीं।
  • अहमदाबाद में भारतीय राष्ट्रीय काॅॅन्ग्रेस के वर्ष 1921 के अधिवेशन में भाग लिया।
  • गोरखपुर सेंट्रल जेल में बंद रहने के दौरान बिस्मिल एक राजनीतिक कैदी के रूप में व्यवहार करने की मांग को लेकर भूख हड़ताल पर चले गए।
  • लखनऊ सेंट्रल जेल में बिस्मिल ने अपनी आत्मकथा लिखी, जिसे हिंदी साहित्य में बेहतरीन कार्यों में से एक माना जाता है।
  • वर्ष 1925 में बिस्मिल और उनके साथी चंद्रशेखर आजाद और अशफाकउल्ला खान ने लखनऊ के पास काकोरी में एक ट्रेन लूटने का फैसला किया। वे अपने प्रयास में सफल रहे लेकिन हमले के एक महीने के भीतर एक दर्जन से अधिक HRA सदस्यों के साथ उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और काकोरी षड्यंत्र मामले के तहत मुकदमा चलाया गया। कानूनी प्रक्रिया 18 महीने तक चली। इसमें राम प्रसाद ‘बिस्मिल’, अशफाक उल्ला खान, राजेंद्र लाहिड़ी तथा रोशन सिंह को मौत की सज़ा सुनाई गई और अन्य क्रांतिकारियों को उम्रकैद की सज़ा दी गई।
  • 19 दिसंबर, 1927 को गोरखपुर जेल में उन्हें फाँसी दी गई। राप्ती नदी के तट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया और बाद में इस स्थल का नाम बदलकर ‘राजघाट’ कर दिया गया।

दादाभाई नौरोजी (1825-1917)

  • “भारत के ग्रैंड ओल्ड मैन” और “भारतीय राष्ट्रवाद के पिता”
  • वे अपने दृष्टिकोण में एक मध्यस्थ थे
  • स्वशासन का दावा करने वाले पहले भारतीय
  • 1885 में कांग्रेस की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका
  • एलफिंस्टन संस्थान में शिक्षित
  • मुफ्त शिक्षा के समर्थक (विशेष रूप से बच्चों के लिए)
  • लंदन इंडियन सोसाइटी (डब्ल्यू सी बनर्जी के साथ) और ईस्ट इंडिया एसोसिएशन (लंदन में 1866) की स्थापना भारतीय मामलों पर ब्रिटिश जनता को जागरूक करने के लिए की
  • ब्रिटेन में स्थापित पहली भारतीय वाणिज्यिक कंपनी के भागीदार
  • रहनुमाई मजदायसन (धार्मिक सुधार संघ, 1851) के नेताओं में से एक – पारसियों की सामाजिक उत्थान के लिए
  • ईस्ट इंडिया एसोसिएशन के सचिव के रूप में: पूरे भारत की यात्रा करके राष्ट्रीय जागरूकता बढाई।
  • वह भारतीय व्यय पर रॉयल कमीशन के सदस्य थे।
  • 1867: सिविल सेवा में भारतीयों को प्रवेश देने की मांग की (सुझाव दिया गया कि सिविल सेवा परीक्षाएं भारत में भी आयोजित की जानी चाहिए)
  • 1885: बॉम्बे प्रेसीडेंसी एसोसिएशन के उपाध्यक्ष बने
  • 1876: “भारत की गरीबी” नामक एक पत्र प्रकाशित – “भारत में गरीबी और गैर-ब्रिटिश शासन”(Poverty and Un-British Rule in India) का प्रस्तावना।
  • सबसे पहले भारतीयों के धन की निकासी(drain of wealth) और परिणामी गरीबी की ओर ध्यान आकर्षित करना।
  • भारत में गरीबी और गैर-ब्रिटिश शासन (1901): अपना सिद्धांत प्रस्तुत किया
  • आर्थिक निकासी: भारत के राष्ट्रीय उत्पाद का वह हिस्सा जो अपने लोगों के उपभोग के लिए उपलब्ध नहीं था, लेकिन राजनीतिक कारणों से ब्रिटेन चले गए।
  • इसके प्रमुख घटक: 1) सिविल और सैन्य अधिकारियों के वेतन और पेंशन 2) भारतीय द्वारा लिए गए ऋण पर ब्याज विदेश से सरकार 3) भारत में विदेशी निवेश पर लाभ 4) ब्रिटेन में नागरिक और सैन्य के लिए खरीदे गए स्टोर 5) शिपिंग बैंकिंग आदि के लिए भुगतान।
  • 1892 में हाउस ऑफ कॉमन्स के सदस्य बनने वाले पहले भारतीय (ब्रिटेन की संसद)
  • कांग्रेस के 3 बार अध्यक्ष बने : 1886, 1893 और 1906 में
  • 1852 में बॉम्बे एसोसिएशन की स्थापना का श्रेय (बॉम्बे प्रेसीडेंसी में अपनी तरह का पहला राजनीतिक संघ)
  • 1906 में कलकत्ता अधिवेशन: राष्ट्रपति के रूप में आधिकारिक तौर पर स्वराज (स्वशासन) की मांग की
  • The voice of India की प्रकाशन की

लाला लाजपत राय (1865-1928)

  • उनका जन्म 28 जनवरी, 1865 को पंजाब के फिरोज़पुर ज़िले (Ferozepur District) के धुडीके (Dhudike) नामक एक छोटे से गाँव में हुआ था।
  • महात्मा हंस राज उनके प्रेरणा स्रोत थे
  • उन्हें ‘पंजाब केसरी’ (Punjab Kesari) और ‘पंजाब का शेर’ (Lion of Punjab) नाम से भी जाना जाता था।
  • उन्होंने लाहौर के गवर्नमेंट कॉलेज से कानून की पढ़ाई की।
  • वे स्वामी दयानंद सरस्वती से प्रभावित होकर लाहौर में आर्य समाज (Arya Samaj) में शामिल हो गए।
  • उनका विश्वास था कि हिंदू धर्म में आदर्शवाद, राष्ट्रवाद (Nationalism) के साथ मिलकर धर्मनिरपेक्ष राज्य (Secular State) की स्थापना करेगा।
  • बिपिन चंद्र पाल और बाल गंगाधर तिलक के साथ मिलकर उन्होंने चरमपंथी नेताओं की  एक तिकड़ी (लाल-बाल-पाल) बनाई।
  • ये हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) से भी जुड़े थे।
  • उन्होंने छुआछूत के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शित किया।
  • स्वराज पार्टी बनाने के लिए सी आर दास और मोतीलाल नेहरू के साथ शामिल हुए।
  • राजनीतिक आंदोलनों में हिस्सा लेने के कारण उन्हें वर्ष 1907 में बर्मा भेज दिया गया था, लेकिन पर्याप्त सबूतों के अभाव में कुछ महीनों बाद वे वापस लौट आए।
  • 1923 और 1926: केंद्रीय विधान सभा के लिए चुने गए
  • 1914: अंतरराष्ट्रीय जनता को शिक्षित करने के लिए ब्रिटेन और अमरीका का दौरा किया
  • 1922: असहयोग आंदोलन को वापस लेने का विरोध किया
  • 1920 : कलकत्ता में कांग्रेस के विशेष सत्र के अध्यक्ष बने
  • 1920: अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस के प्रथम अध्यक्ष बने
  • 1917 : न्यू में इंडियन होम रूल लीग ऑफ अमेरिका की स्थापना नयूयोर्क में की
  • उनकी महत्वपूर्ण साहित्यिक कृतियों में यंग इंडिया, इंग्लैंड का भारत का ऋण, जापान का विकास, भारत की स्वतंत्रता की इच्छा, भगवद गीता का संदेश, भारत का राजनीतिक भविष्य, भारत में राष्ट्रीय शिक्षा की समस्या, और अमेरिका का यात्रा वृत्तांत शामिल हैं।
  • उन्होंने 1921 में सर्वेंट्स ऑफ पीपल सोसाइटी की स्थापना की।
  • वे आर्य गजट के संपादक एवं संस्थापक थे।
  • उन्होने वर्ष 1894 में पंजाब नेशनल बैंक की आधारशिला रखी।
  • वर्ष 1928 में जब वे लाहौर में साइमन कमीशन के खिलाफ एक मौन विरोध का नेतृत्व कर रहे थे तो उन पर पुलिस अधीक्षक जेम्स स्कॉट द्वारा बेरहमी से लाठीचार्ज किया गया जिसमें वे गंभीर रूप से घायल हो गए और कुछ ही हफ्तों बाद उनकी मृत्यु हो गई।

मुहम्मद अली जिन्ना (1876-1948)

  • मोहम्मद अली जिन्ना (जन्म: 25 दिसम्बर 1876 मृत्यु: 11 सितम्बर 1948) बीसवीं सदी के एक प्रमुख राजनीतिज्ञ थे। जिन्हें पाकिस्तान के संस्थापक के रूप में जाना जाता है। वे मुस्लिम लीग के नेता थे जो आगे चलकर पाकिस्तान के पहले गवर्नर जनरल बने। पाकिस्तान में, उन्हें आधिकारिक रूप से क़ायदे-आज़म यानी महान नेता और बाबा-ए-क़ौम यानी राष्ट्र पिता के नाम से नवाजा जाता है। उनके जन्म दिन पर पाकिस्तान में अवकाश रहता है।
  • 1896 में जिन्ना भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गये।
  • भारतीय राजनीति में जिन्ना का उदय 1916 में कांग्रेस के एक नेता के रूप में हुआ था, जिन्होने हिन्दू-मुस्लिम एकता पर जोर देते हुए मुस्लिम लीग के साथ लखनऊ समझौता करवाया था। वे अखिल भारतीय होम रूल लीग के प्रमुख नेताओं में गिने जाते थे।
  • जिन्ना का कांग्रेस से मतभेद उसी समय शुरू हो गये थे जब 1918 में भारतीय राजनीति में गान्धीजी का उदय हुआ। गान्धीजी ने राजनीति में अहिंसात्मक सविनय अवज्ञा और हिन्दू मूल्यों को बढ़ावा दिया। गान्धीजी के अनुसार, सत्य, अहिंसा और सविनय अवज्ञा से स्वतन्त्रता और स्वशासन पाया जा सकता है, जबकि जिन्ना का मत उनसे अलग था। जिन्ना का मानना था कि सिर्फ संवैधानिक संघर्ष से ही आजादी पाई जा सकती है।. कांग्रेस के दूसरे नेताओं से अलग, गान्धीजी विदेशी कपड़े नहीं पहनते थे, अंग्रेजी की जगह ज्यादा से ज्यादा हिन्दी का प्रयोग करते थे और सनातन हिन्दू चिन्तन का ही प्रयोग राजनीति में करते थे। यही कुछ कारण थे कि गान्धीजी को अपार लोकप्रियता मिली। गान्धी जी ने खिलाफत आंदोलन का समर्थन किया था जबकि जिन्ना ने इसका खुलकर विरोध किया। जिन्ना मानते थे कि इससे धार्मिक कट्टरता को बढ़ावा मिलेगा।
  • 1920 में जिन्ना ने कांग्रेस के इस्तीफा दे दिया। इसके साथ ही, उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि गान्धीजी के जनसंघर्ष का सिद्धांत हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच विभाजन को बढ़ायेगा कम नहीं करेगा। उन्होंने यह भी कहा कि इससे दोनों समुदायों के अन्दर भी जबर्दश्त विभाजन पैदा होगा। मुस्लिम लीग का अध्यक्ष बनते ही जिन्ना ने कांग्रेस और ब्रिटिश समर्थकों के बीच विभाजन रेखा खींच दी थी।
  • 1923 में जिन्ना मुंबई से सेण्ट्रल लेजिस्लेटिव असेम्बली के सदस्य चुने गये। एक कानून निर्माता के रूप में उन्होंने स्वराज पार्टी को मजबूती प्रदान की। 1925 में लॉर्ड रीडिग ने उन्हें नाइटहुड की उपाधि दी।

मौलाना अबुल कलाम आज़ादी(1888-1958)

  • मौलाना अबुल कलाम आज़ाद या अबुल कलाम गुलाम मुहियुद्दीन (11 नवंबर, 1888 – 22 फरवरी, 1958) एक प्रसिद्ध भारतीय मुस्लिम विद्वान थे।
  • वे महात्मा गांधी के सिद्धांतो का समर्थन करते थे। उन्होंने हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए कार्य किया, तथा वे अलग मुस्लिम राष्ट्र (पाकिस्तान) के सिद्धांत का विरोध करने वाले मुस्लिम नेताओ में से थे।
  • खिलाफत आंदोलन में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही।
  • 1923 में वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सबसे कम उम्र के प्रेसीडेंट बने।
  • वे 1940 और 1945 के बीच कांग्रेस के प्रेसीडेंट रहे।
  • आजादी के बाद वे भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के रामपुर जिले से 1952 में सांसद चुने गए और वे भारत के पहले शिक्षा मंत्री बने।
  • अन्य मुस्लिम नेताओं से अलग उन्होने 1905 में बंगाल के विभाजन का विरोध किया और ऑल इंडिया मुस्लिम लीग के अलगाववादी विचारधारा को खारिज़ कर दिया।
  • उन्होने 1912 में एक उर्दू पत्रिका अल हिलाल का सूत्रपात किया। उनका उद्येश्य मुसलमान युवकों को क्रांतिकारी आन्दोलनों के प्रति उत्साहित करना और हिन्दू-मुस्लिम एकता पर बल देना था। उन्होने कांग्रेसी नेताओं का विश्वास बंगाल, बिहार तथा बंबई में क्रांतिकारी गतिविधियों के गुप्त आयोजनों द्वारा जीता। उन्हें 1920 में राँची में जेल की सजा भुगतनी पड़ी।
  • जेल से निकलने के बाद वे जलियांवाला बाग हत्याकांड के विरोधी नेताओं में से एक थे। इसके अलावा वे खिलाफ़त आन्दोलन के भी प्रमुख थे।
  • गाँधी जी के असहयोग आन्दोलन में उन्होंने सक्रिय रूप से भाग लिया।
  • स्वतंत्र भारत के पहले शिक्षा मंत्री थे। उन्होंने ग्यारह वर्षों तक राष्ट्र की शिक्षा नीति का मार्गदर्शन किया। मौलाना आज़ाद को ही ‘भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान’ अर्थात ‘आई.आई.टी.’ और ‘विश्वविद्यालय अनुदान आयोग’ की स्थापना का श्रेय है।
  •  उन्‍होंने शिक्षा और संस्‍कृति के विकास के लिए संगीत नाटक अकादमी (1953), साहित्य अकादमी (1954) और ललितकला अकादमी (1954) जैसे उत्‍कृष्‍ट संस्‍थानों की भी स्‍थापना की।
  • केंद्रीय सलाहकार शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष होने पर सरकार से केंद्र और राज्यों दोनों के अतिरिक्त विश्वविद्यालयों में सार्वभौमिक प्राथमिक शिक्षा, 14 वर्ष तक की आयु के सभी बच्चों के लिए निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा, कन्याओं की शिक्षा, व्यावसायिक प्रशिक्षण, कृषि शिक्षा और तकनीकी शिक्षा जैसे सुधारों की वकालत की।
  • उन्हे वर्ष 1992 में मरणोपरान्त भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

वी.ओ. चिदंबरम पिल्लई

  • ल्लियप्पन उलगनाथन चिदंबरम पिल्लई (चिदंबरम पिल्लई) का जन्म 5 सितंबर, 1872 को तमिलनाडु के तिरुनेलवेली ज़िले के ओट्टापिडारम में एक प्रख्यात वकील उलगनाथन पिल्लई और परमी अम्माई के घर हुआ था।
  • वर्ष 1905 के अंत में चिदंबरम पिल्लई ने मद्रास का दौरा किया और बाल गंगाधर तिलक तथा लाला लाजपत राय द्वारा शुरू किये गए स्वदेशी आंदोलन से जुड़े।
  • गांधीजी के चंपारण सत्याग्रह (1917) से पहले भी चिदंबरम पिल्लई ने तमिलनाडु में मज़दूर वर्ग का मुद्दा उठाया था और इस तरह वह इस संबंध में गांधीजी के अग्रदूत रहे।
  • चिदंबरम पिल्लई ने अन्य नेताओं के साथ मिलकर 9 मार्च, 1908 की सुबह बिपिन चंद्र पाल की जेल से रिहाई का जश्न मनाने और स्वराज का झंडा फहराने के लिये एक विशाल जुलूस निकालने का संकल्प लिया।
  • कृतियाँ: मेयाराम (1914), मेयारिवु (1915), एंथोलॉजी (1915), आत्मकथा (1946), थिरुकुरल के मनकुदावर के साहित्यिक नोट्स के साथ ((1917)), टोल्कपियम के इलमपुरनार के साहित्यिक नोट्स के साथ (1928)।
  • मृत्यु: चिदंबरम पिल्लई की मृत्यु 18 नवंबर, 1936 को भारतीय राष्ट्रीय कॉन्ग्रेस कार्यालय तूतीकोरिन में उनकी अंतिम इच्छा के अनुरूप हुई।

सुभाष चंद्र बोस

  • सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को उड़ीसा के कटक शहर में हुआ था। उनकी माता का नाम प्रभावती दत्त बोस और पिता का नाम जानकीनाथ बोस था।
  • अपनी शुरुआती स्कूली शिक्षा के बाद उन्होंने रेवेनशॉ कॉलेजिएट स्कूल (Ravenshaw Collegiate School) में दाखिला लिया। उसके बाद उन्होंने प्रेसीडेंसी कॉलेज कोलकाता में प्रवेश लिया परंतु उनकी उग्र राष्ट्रवादी गतिविधियों के कारण उन्हें वहाँ से निष्कासित कर दिया गया। इसके बाद वे इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिये कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय चले गए।
  • वर्ष 1919 में बोस भारतीय सिविल सेवा (Indian Civil Services- ICS) परीक्षा की तैयारी करने के लिये लंदन चले गए और वहाँ उनका चयन भी हो गया। हालाँकि बोस ने सिविल सेवा से त्यागपत्र दे दिया क्योंकि उनका मानना था कि वह अंग्रेज़ों के साथ कार्य नहीं कर सकते।
  • सुभाष चंद्र बोस, विवेकानंद की शिक्षाओं से अत्यधिक प्रभावित थे और उन्हें अपना आध्यात्मिक गुरु मानते थे, जबकि चितरंजन दास (Chittaranjan Das) उनके राजनीतिक गुरु थे।
  • वर्ष 1921 में बोस ने चित्तरंजन दास की स्वराज पार्टी द्वारा प्रकाशित समाचार पत्र ‘फॉरवर्ड’ के संपादन का कार्यभार संभाला।
  • वर्ष 1923 में बोस को अखिल भारतीय युवा कॉन्ग्रेस का अध्यक्ष और साथ ही बंगाल राज्य कॉन्ग्रेस का सचिव चुना गया।
  • वर्ष 1925 में क्रांतिकारी आंदोलनों से संबंधित होने के कारण उन्हें माण्डले कारागार में भेज दिया गया जहाँ वह तपेदिक की बीमारी से ग्रसित हो गए ।
  • वर्ष 1930 में उन्हें कलकत्ता का मेयर चुना गया, उसी वर्ष उन्हें अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन कॉन्ग्रेस (All India Trade Union Congress- AITUC) का अध्यक्ष भी चुना गया।
  • वर्ष 1930 के दशक के मध्य में बोस ने यूरोप की यात्रा की। उन्होंने पहले शोध किया तत्पश्चात् ‘द इंडियन स्ट्रगल’ नामक पुस्तक का पहला भाग लिखा, जिसमें उन्होंने वर्ष 1920-1934 के दौरान होने वाले देश के सभी स्वतंत्रता आंदोलनों को कवर किया।
  • उन्होंने बिना शर्त स्वराज (Unqualified Swaraj) अर्थात् स्वतंत्रता का समर्थन किया और मोतीलाल नेहरू रिपोर्ट (Motilal Nehru Report) का विरोध किया जिसमें भारत के लिये डोमिनियन के दर्जे की बात कही गई थी।
  • उन्होंने वर्ष 1930 के नमक सत्याग्रह में सक्रिय रूप से भाग लिया और वर्ष 1931 में सविनय अवज्ञा आंदोलन के निलंबन तथा गांधी-इरविन समझौते पर हस्ताक्षर करने का विरोध किया।
  • वर्ष 1930 के दशक में वह जवाहरलाल नेहरू और एम.एन. रॉय के साथ कॉन्ग्रेस की वाम राजनीति में संलग्न रहे।
  • वाम समूह के प्रयास के कारण कॉन्ग्रेस ने वर्ष 1931 में कराची में दूरगामी कट्टरपंथी प्रस्ताव पारित किये, जिसने मुख्य कॉन्ग्रेस लक्ष्य को मौलिक अधिकारों की गारंटी देने के अलावा उत्पादन के साधनों के समाजीकरण के रूप में घोषित किया।
  • बोस ने वर्ष 1938 (हरिपुरा) में भारतीय राष्ट्रीय कॉन्ग्रेस का अध्यक्ष निर्वाचित होने के बाद राष्ट्रीय योजना आयोग का गठन किया। यह नीति गांधीवादी विचारों के अनुकूल नहीं थी।
  • वर्ष 1939 में त्रिपुरी में उन्होंने गांधी जी के उम्मीदवार पट्टाभि सीतारमैय्या के खिलाफ फिर से अध्यक्ष पद का चुनाव जीता।
  • गांधी जी से साथ वैचारिक मतभेद के कारण बोस ने कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष पद से त्यागपत्र दे दिया।
  • कॉन्ग्रेस के भीतर एक गुट ‘ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक’ का गठन किया, जिसका उद्देश्य राजनीतिक वाम को मज़बूत करना था।
  • जब द्वितीय विश्व युद्ध शुरू हुआ तो उन्हें फिर से सविनय अवज्ञा में भाग लेने के कारण कैद कर लिया गया और कोलकाता में नज़रबंद कर दिया गया।
  • बोस ने पेशावर और अफगानिस्तान के रास्ते बर्लिन भागने का प्रबंध किया। यूरोप में बोस ने भारत की आज़ादी के लिये हिटलर और मुसोलिनी से मदद मांगी।
  • आज़ाद हिंद रेडियो का आरंभ नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के नेतृत्त्व में 1942 में जर्मनी में किया गया था। इस रेडियो का उद्देश्य भारतीयों को अंग्रेज़ों से स्वतंत्रता प्राप्त करने हेतु संघर्ष करने के लिये प्रचार-प्रसार करना था।
  • इस रेडियो पर बोस ने 6 जुलाई, 1944 को महात्मा गांधी को ‘राष्ट्रपिता’ के रूप में संबोधित किया।
  • वह जुलाई 1943 में जर्मनी से जापान-नियंत्रित सिंगापुर पहुँचे वहाँ से उन्होंने अपना प्रसिद्ध नारा ‘दिल्ली चलो’ जारी किया और 21 अक्तूबर, 1943 को आज़ाद हिंद सरकार तथा भारतीय राष्ट्रीय सेना के गठन की घोषणा की।
  • वह जापान होते हुए बर्मा पहुँचे और वहाँ भारतीय राष्ट्रीय सेना को संगठित किया ताकि जापान की मदद से भारत को आज़ाद कराया जा सके।
  • 18 अगस्त, 1945 को जापान शासित फॉर्मोसा (अब ताइवान) में एक विमान दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई।

महात्मा गांधी

  • गांधी जी का जन्म पोरबंदर की रियासत में 2 अक्तूबर, 1869 में हुआ था। उनके पिता करमचंद गांधी, पोरबंदर रियासत के दीवान थे और उनकी माँ का नाम पुतलीबाई था।
  • गांधी जी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा राजकोट से प्राप्त की और बाद में वे वकालत की पढ़ाई करने के लिये लंदन चले गए। उल्लेखनीय है कि लंदन में ही उनके एक दोस्त ने उन्हें भगवद् गीता से परिचित कराया और इसका प्रभाव गांधी जी की अन्य गतिविधियों पर स्पष्ट रूप से देखने को मिलता है।
  • वर्ष 1893 में दादा अब्दुल्ला (एक व्यापारी जिनका दक्षिण अफ्रीका में शिपिंग का व्यापार था) ने गांधी जी को दक्षिण अफ्रीका में मुकदमा लड़ने के लिये आमंत्रित किया, जिसे गांधी जी ने स्वीकार कर लिया और गांधी जी दक्षिण अफ्रीका के लिये रवाना हो गए।
  • दक्षिण अफ्रीका में गांधी ने अश्वेतों और भारतीयों के प्रति नस्लीय भेदभाव को महसूस किया। उन्हें कई अवसरों पर अपमान का सामना करना पड़ा जिसके कारण उन्होंने नस्लीय भेदभाव से लड़ने का निर्णय लिया।
  • उस समय दक्षिण अफ्रीका में भारतीयों और अश्वेतों को वोट देने तथा फुटपाथ पर चलने तक का अधिकार नहीं था, गांधी ने इसका कड़ा विरोध किया और अंततः वर्ष 1894 में ‘नटाल इंडियन कांग्रेस’ नामक एक संगठन स्थापित करने में सफल रहे। दक्षिण अफ्रीका में 21 वर्षों तक रहने के बाद वे वर्ष 1915 में वापस भारत लौट आए।
  • 1917-18 : 3 संघर्षों में शामिल: चंपारण (1917, पहला सविनय अवज्ञा ) सत्याग्रह, अहमदाबाद मिल हड़ताल (1918, पहली भूख हड़ताल) और खेड़ा (1918, पहला असहयोग)
  • 1919 : रॉलेट एक्ट 1919 के खिलाफ सत्याग्रह (पहला अखिल भारतीय राजनीतिक आंदोलन), जलियांवाला बाग हत्याकांड: उन्होंने कैसर-ए-हिंद की उपाधि लौटा दी
  • 1920 : असहयोग आंदोलन और खिलाफत आंदोलन 1920-22
  • 1922 : चौरी चौरा हिंसा की घटना के बाद गांधी ने असहयोग आंदोलन वापस ले लिया
  • 1924 : गांधी कांग्रेस के बेलगाम अधिवेशन में अध्यक्ष थे – केवल एक बार
  • 1930 : सविनय अवज्ञा आंदोलन – दांडी यात्रा
  • 1931 : गांधी-इरविन समझौता (दिल्ली में हस्ताक्षरित) (कराची सत्र में कांग्रेस द्वारा समर्थित)
  • 1932 : सांप्रदायिक पुरस्कार: इसे भारतीय एकता पर हमले के रूप में माना- हिंदुओं और दलित वर्गों दोनों के लिए हानिकारक। उन्होंने आरक्षित सीट पर नहीं बल्कि पृथक निर्वाचक मंडल की मांग पर आपत्ति जताई।
  • 1932: अनिश्चितकालीन उपवास (परिणामस्वरूप पूना समझौते पर हस्ताक्षर किए गए)।
  • 1934: उन्होंने विचार और कार्य में बेहतर सेवा करने के लिए INC से इस्तीफा दे दिया।
  • 1940 : गांधी ने व्यक्तिगत सत्याग्रह आंदोलन शुरू किया
  • 1942 : करो या मरो के नारे के साथ भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत
  • 1948 : नाथूराम गोडसे ने गांधी की गोली मारकर हत्या कर दी थी

जवाहर लाल नेहरू (1889-1964)

  • पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवम्बर 1889 को इलाहाबाद में हुआ था। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने घर पर निजी शिक्षकों से प्राप्त की।
  • 1912 में उन्होंने एक प्रतिनिधि के रूप में बांकीपुर सम्मेलन में भाग लिया एवं 1919 में इलाहाबाद के होम रूल लीग के सचिव बने। 1916 में वे महात्मा गांधी से पहली बार मिले जिनसे वे काफी प्रेरित हुए। उन्होंने 1920 में उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में पहले किसान मार्च का आयोजन किया। 1920-22 के असहयोग आंदोलन के सिलसिले में उन्हें दो बार जेल भी जाना पड़ा।
  • पंडित नेहरू सितंबर 1923 में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव बने।
  • 29 अगस्त 1928 को उन्होंने सर्वदलीय सम्मेलन में भाग लिया एवं वे उनलोगों में से एक थे जिन्होंने भारतीय संवैधानिक सुधार की नेहरू रिपोर्ट पर अपने हस्ताक्षर किये थे। इस रिपोर्ट का नाम उनके पिता श्री मोतीलाल नेहरू के नाम पर रखा गया था। उसी वर्ष उन्होंने ‘भारतीय स्वतंत्रता लीग’ की स्थापना की एवं इसके महासचिव बने। इस लीग का मूल उद्देश्य भारत को ब्रिटिश साम्राज्य से पूर्णतः अलग करना था।
  • 1929 में पंडित नेहरू भारतीय राष्ट्रीय सम्मेलन के लाहौर सत्र के अध्यक्ष चुने गए जिसका मुख्य लक्ष्य देश के लिए पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त करना था। उन्हें 1930-35 के दौरान नमक सत्याग्रह एवं कांग्रेस के अन्य आंदोलनों के कारण कई बार जेल जाना पड़ा। उन्होंने 14 फ़रवरी 1935 को अल्मोड़ा जेल में अपनी ‘आत्मकथा’ का लेखन कार्य पूर्ण किया।
  • पंडित नेहरू ने भारत को युद्ध में भाग लेने के लिए मजबूर करने का विरोध करते हुए व्यक्तिगत सत्याग्रह किया, जिसके कारण 31 अक्टूबर 1940 को उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें दिसंबर 1941 में अन्य नेताओं के साथ जेल से मुक्त कर दिया गया। 7 अगस्त 1942 को मुंबई में हुई अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की बैठक में पंडित नेहरू ने ऐतिहासिक संकल्प ‘भारत छोड़ो’ को कार्यान्वित करने का लक्ष्य निर्धारित किया। 8 अगस्त 1942 को उन्हें अन्य नेताओं के साथ गिरफ्तार कर अहमदनगर किला ले जाया गया। यह अंतिम मौका था जब उन्हें जेल जाना पड़ा एवं इसी बार उन्हें सबसे लंबे समय तक जेल में समय बिताना पड़ा। अपने पूर्ण जीवन में वे नौ बार जेल गए।
  • जनवरी 1945 में अपनी रिहाई के बाद उन्होंने राजद्रोह का आरोप झेल रहे आईएनए के अधिकारियों एवं व्यक्तियों का कानूनी बचाव किया। मार्च 1946 में पंडित नेहरू ने दक्षिण-पूर्व एशिया का दौरा किया। 6 जुलाई 1946 को वे चौथी बार कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए एवं फिर 1951 से 1954 तक तीन और बार वे इस पद के लिए चुने गए।

राजेन्द्र प्रसाद

  • डॉ राजेन्द्र प्रसाद (3 दिसम्बर 1884 – 28 फरवरी 1963) भारत के प्रथम राष्ट्रपति एवं महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी थे।
  • उन्होंने भारतीय संविधान के निर्माण में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया था। राष्ट्रपति होने के अतिरिक्त उन्होंने भारत के पहले मंत्रिमंडल में 1946 एवं 1947 मेें कृषि और खाद्यमंत्री का दायित्व भी निभाया था। सम्मान से उन्हें प्रायः ‘राजेन्द्र बाबू’ कहकर पुकारा जाता है।
  • राजेन्द्र बाबू का जन्म 3 दिसम्बर 1884 को बिहार के तत्कालीन सारण जिले (अब सीवान) के जीरादेई नामक गाँव में हुआ था। उनके पिता महादेव सहाय संस्कृत एवं फारसी के विद्वान थे एवं उनकी माता कमलेश्वरी देवी एक धर्मपरायण महिला थीं।
  •  राजेन्द्र बाबू का विवाह उस समय की परिपाटी के अनुसार बाल्यकाल में ही, लगभग 13 वर्ष की उम्र में, राजवंशी देवी से हो गया।
  • 1926 ई० में वे बिहार प्रदेशीय हिन्दी साहित्य सम्मेलन के और 1927 ई० में उत्तर प्रदेशीय हिन्दी साहित्य सम्मेलन के सभापति थे।
  • चम्पारण में गान्धीजी ने एक तथ्य अन्वेषण समूह भेजे जाते समय उनसे अपने स्वयंसेवकों के साथ आने का अनुरोध किया था। राजेन्द्र बाबू महात्मा गाँधी की निष्ठा, समर्पण एवं साहस से बहुत प्रभावित हुए और 1921 में उन्होंने कोलकाता विश्वविद्यालय के सीनेटर का पदत्याग कर दिया।
  • गाँधीजी ने जब विदेशी संस्थाओं के बहिष्कार की अपील की थी तो उन्होंने अपने पुत्र मृत्युंजय प्रसाद, जो एक अत्यंत मेधावी छात्र थे, उन्हें कोलकाता विश्वविद्यालय से हटाकर बिहार विद्यापीठ में दाखिल करवाया था। उन्होंने ‘सर्चलाईट’ और ‘देश’ जैसी पत्रिकाओं में इस विषय पर बहुत से लेख लिखे थे और इन अखबारों के लिए अक्सर वे धन जुटाने का काम भी करते थे।
  • 1914 में बिहार और बंगाल मे आई बाढ़ में उन्होंने काफी बढ़चढ़ कर सेवा-कार्य किया था। बिहार के 1934 के भूकंप के समय राजेन्द्र बाबू कारावास में थे। जेल से दो वर्ष में छूटने के पश्चात वे भूकम्प पीड़ितों के लिए धन जुटाने में तन-मन से जुट गये और उन्होंने वायसराय के जुटाये धन से कहीं अधिक अपने व्यक्तिगत प्रयासों से जमा किया।
  • 1934 में वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के मुंबई अधिवेशन में अध्यक्ष चुने गये। नेताजी सुभाषचंद्र बोस के अध्यक्ष पद से त्यागपत्र देने पर कांग्रेस अध्यक्ष का पदभार उन्होंने एक बार पुन: 1939 में सँभाला था।
  • भारत के स्वतन्त्र होने के बाद संविधान लागू होने पर उन्होंने देश के पहले राष्ट्रपति का पदभार सँभाला। राष्ट्रपति के तौर पर उन्होंने कभी भी अपने संवैधानिक अधिकारों में प्रधानमंत्री या कांग्रेस को दखलअंदाजी का मौका नहीं दिया और हमेशा स्वतन्त्र रूप से कार्य करते रहे। हिन्दू अधिनियम पारित करते समय उन्होंने काफी कड़ा रुख अपनाया था। राष्ट्रपति के रूप में उन्होंने कई ऐसे दृष्टान्त छोड़े जो बाद में उनके परवर्तियों के लिए उदाहरण बन गए।
  • भारतीय संविधान के लागू होने से एक दिन पहले 25 जनवरी 1950 को उनकी बहन भगवती देवी का निधन हो गया, लेकिन वे भारतीय गणराज्य के स्थापना की रस्म के बाद ही दाह संस्कार में भाग लेने गये।
  • 12 वर्षों तक राष्ट्रपति के रूप में कार्य करने के पश्चात उन्होंने 1962 में अपने अवकाश की घोषणा की। अवकाश ले लेने के बाद ही उन्हें भारत सरकार द्वारा सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाज़ा गया।
  • राजेन्द्र बाबू ने अपनी आत्मकथा (1946) के अतिरिक्त कई पुस्तकें भी लिखी जिनमें बापू के कदमों में बाबू (1954), इण्डिया डिवाइडेड (1946), सत्याग्रह ऐट चम्पारण (1922), गान्धीजी की देन, भारतीय संस्कृति व खादी का अर्थशास्त्र इत्यादि उल्लेखनीय हैं।
  • सन 1962 में अवकाश प्राप्त करने पर राष्ट्र ने उन्हें भारत रत्‍न की सर्वश्रेष्ठ उपाधि से सम्मानित किया।
  • अपने जीवन के आख़िरी महीने बिताने के लिये उन्होंने पटना के निकट सदाकत आश्रम चुना। यहाँ पर 28 फ़रवरी 1963 में उनके जीवन की कहानी समाप्त हुई।

Sign up to Receive Awesome Content in your Inbox, Frequently.

We don’t Spam!
Thank You for your Valuable Time

Advertisements

Share this post